अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कई खिलाड़ियों को अपने संन्यास के बाद तंगहाली का सामना करना और उनके लिए रोजी रोटी का इंतजाम करना भी कठिन हो गया। इन खिलाड़ियों ने अपने जीवन में पैसा तो कापफी कमाया पर उसे सही प्रकार से निवेश नहीं कर पाये। हाल के दिनों में पाकिस्तान का एक क्रिकेटर टीम से बाहर कर दिये जाने के बाद मिनी ट्रक चलाकर गुजारा करना नजर आया था। 
जनार्दन नवले
भारतीय टेस्ट क्रिकेट के पहले विकेटकीपर बल्लेबाज जनार्दन नवले ने अपना पहला मैच साल 1932 में खेला था। नवले ने टीम इंडिया के लिए 2 टेस्ट मैच खेले जिनमें 10.5 की औसत से 42 रन बनाए। इस खिलाड़ी की जिंदगी का आखिरी वक्त काफी कठिनाइयों में बीता। उन्होंने एक शुगर मिल में काम किया पर उम्र बढ़ने के बाद जब काम नहीं मिला तो उन्हें सड़कों पर भीख तक मांगनी पड़ी। 
क्रिस केर्न्‍स
न्यूजीलैंड के पूर्व ऑलराउंडर क्रिस केर्न्‍स एक बेहद ही आक्रामक बल्लेबाज हुआ करते थे। बल्लेबाजी के साथ-साथ गेंदबाजी में भी उनका प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। केर्न्‍स ने अपने करियर में 62 टेस्ट मैच खेले, जिनमें उन्होंने 33.54 की औसत से  5 शतकों के साथ 3320 रन बनाये। वहीं वनडे क्रिकेट में केर्न्‍स ने 215 मैचों में 32.81 की औसत से 201 विकेट के साथ 29.46 के औसत से 4950 रन भी अपने नाम दर्ज किए। साल  2010 में उन्होंने दुबई में डायमंड बिजनेस किया, मगर साल 2013 में उन पर मैच फिक्सिंग का आरोप लगा जिसकी वजह से उनका पैसा जब्त हो गया। इतना ही नहीं हालात इतने खराब हो गए कि अब उन्हें न्यूजीलैंड में बस की साफ सफाई का काम करना पड़ रहा है।
मैथ्यू सिंक्लेयर
न्यूजीलैंड के मैथ्यू सिंक्लेयर अपने पहले ही मैच में दोहरा शतक लगाकर स्टार क्रिकेटर बन गये थे। के इस सलामी बल्लेबाज ने टेस्ट क्रिकेट में 33 मैचों में 32.06 की औसत से 1,635 रन बनाए। इसके अलावा वनडे क्रिकेट में 54 मैचों में 28.35 की औसत से 1304 रन बनाए हैं। सिंक्लेयर ने साल 2013 में टीम से संन्यास ले लिया था। संन्यास के बाद वह एक कंपनी में सेल्समैन का काम कर रहे हैं। 
अरशद खान : 
पाकिस्तान के पूर्व  गेंदबाज अरशद खान ने अपने करियर की शुरुआत साल 1997-98 में की थी. अरशद ने पाकिस्तान के लिए कुल 9 टेस्ट मैच खेले जिनमें उन्होंने 30.0 की औसत से 32 विकेट अपने नाम किए! इसके अलावा उन्होंने एकदिवसीय क्रिकेट में 60 मैच खेले जिसमें 35.07 की औसत से कुल 57 विकेट हासिल किये। अरशद का करियर ज्यादा लंबा नहीं चला। साल 2006 में उनका क्रिकेट करियर पूरी तरह से खत्म हो गया था। क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद उन्हें गुजारे के लिए टैक्सी तक चलानी पड़ी। 
एडम होलियोक
इंग्लैंड के एडम होलियोक एकदिवसीय क्रिकेट में अपनी टीम के कप्तान भी रहे थे। उन्होंने अपने करियर में 4 टेस्ट मैच खेले, जिनमें उन्होंने 10.83 की औसत से 65 रन बनाए और 2 विकेट लिए। वहीं एकदिवसीय क्रिकेट में एडम होलियोक ने 35 मैचों में 25.25 की औसत से 606 रन बनाये इसके अलावा गेंदबाजी में 31.84 की औसत से 32 विकेट लिए। साल 2008 में उन्होंने क्रिकेट छोड़ दिया और ऑस्ट्रेलिया में कारोबार करने लगे पर उसमें नुकसान होने के कारण उन्हें जीवन यापन के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।