मैनचेस्टर । इंग्लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान माइकल आथर्टन ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय सुपर लीग क्वॉलिफिकेशन प्रणाली को कठिन बताते हुए कहा है कि इसमें बदलाव जरुरी है। आथर्टन ने कहा कि आईसीसी को भारत में होने वाले 2023 विश्व कप के लिए सरल क्वॉलिफिकेशन प्रणाली बनानी चाहिए। आईसीसी ने इससे पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय सुपर लीग शुरू की, जिससे 2023 में होने वाले पुरुष विश्व कप में हिस्सा लेने वाली टीमों का फैसला होगा। इसमें मेजबान भारत सहित शीर्ष सात टीमों को सीधे प्रवेश मिलेगा। सुपर लीग की शुरुआत विश्व चैंपियन इंग्लैंड और आयरलैंड के बीच 30 जुलाई से शुरू हो रही सीरीज के साथ होगी। आथर्टन ने कहा, 'जो भी होता है उसके पीछे कोई तर्क होता है पर यह काफी कठिन हो जाता है क्योंकि आपको दो प्रणालियों को एक साथ जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं।' उन्होंने कहा, 'आपके पास आईसीसी वैश्विक प्रतियोगिताएं हैं, विश्वकप, टी20 विश्व कप और चैंपियन्स ट्रॉफी, वहीं आप इसे सामान्य द्विपक्षीय सीरीज से जोड़ने का प्रयास कर रहे हो, जो भविष्य दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) का ही एक हिस्सा है, जहां प्रत्येक टीम एक-दूसरे के खिलाफ खेलती है।' आथर्टन ने कहा कि थोड़ी कम जटिल प्रणाली से लोगों को समझने में आसानी होती। आईसीसी की क्रिकेट समिति का हिस्सा इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस ने कहा कि इससे सहज प्रणाली लागू कर पाना असंभव है और संचालन संस्था जो भी करे उसे आलोचना का सामना करना ही पड़ेगा।उन्होंने कहा, 'किसी भी सहज प्रक्रिया को खोजने का प्रयास करना समझ आता है लेकिन यह संभव नहीं है।'