भोपाल| भाजपा के पूर्व राज्यसभा सांसद कैलाश सारंग पंचतत्व में विलीन हो गए हैं। उनके बड़े बेटे विवेक सारंग और कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग दोनों ने उन्हें मुखाग्नि दी। उनका अंतिम संस्कार रविवार को सुभाषनगर श्मशान घाट पर करीब 4.30 बजे किया गया। अंतिम संस्कार के बाद शांति सभा हुई। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा सहित कई बड़े नेता और हजारों लोग मौजूद थे। इससे पहले कैलाश सारंग का पार्थिव शरीर रविवार सुबह करीब 9 बजे विशेष विमान से मुंबई से भोपाल लाया गया। एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने पार्थिव शरीर को कंधा दिया। एयरपोर्ट से पार्थिव देह को 74- बंगले स्थित निज निवास पर लाया गया, जहां पर शिवराज सरकार के कई मंत्री और भाजपा नेता उनके अंतिम दर्शनों के लिए पहुंचे और उन्होंने श्रद्धासुमन अर्पित किए।
दोपहर उनके पार्थिव शरीर पर तिरंगा लपेटा और गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। दोपहर 2.30 बजे पार्थिव शरीर को भाजपा कार्यालय में अंतिम दर्शन के बाद सुभाष नगर विश्राम घाट पहुंच गया है। यहां राजकीय सम्मान के साथ कुछ देर में कैलाश सारंग का अंतिम संस्कार किया जाएगा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुरेश पचौरी के साथ दूसरे बड़े नेता भी उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे हैैं। शनिवार को मुंबई के अस्पताल में 87 साल के कैलाश सारंग का निधन हो गया था। उनकी तबीयत बिगड़ने पर 2 नवंबर को एयर एंबुलेंस से भोपाल से मुंबई ले जाया गया था। इधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व सांसद और कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग के पिता कैलाश सारंग के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। मोदी ने संवेदना जताते हुए लिखा- कैलाश सारंग को मध्य प्रदेश की प्रगति चाहने वाले दयालु और मेहनती के नेता के रूप में याद किए जाएगा। उन्होंने मध्य प्रदेश में भाजपा को मजबूत करने के लिए अथक प्रयास किए।