वॉशिंगटन । अमेरिकी स्पेस एजेंसी नेशनल एरोनाटिकल एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) के मुताबिक इस हफ्ते 5 क्षुद्रग्रह 64,000 हजार किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से पृथ्वी के नजदीक से गुजरेंगे। हालांकि, इनमें से किसी से धरती को खतरा नहीं है, क्योंकि ये धरती से काफी दूर से गुजरेंगे। इस सप्ताह 2020 एमके, 2020 एमएफ-1, 2020 केक्यू-7, 2020 एमई-1 और 2020 जेएक्स-1 नाम के एस्टेरायड्स धरती के पास से गुजरेंगे।  इन पर नासा के वैज्ञानिक नजर रखे हुए हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि इसमें 2020 एमके नाम का क्षुद्रग्रह सबसे बड़ा है, जो 27 जून को 64,000 हजार किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हमारी धरती के पास से गुजरेगा।
इसके बाद 17 मीटर के व्यास वाला 2020एमएफ1 भी लगभग 64 हजार किलोमीटर की गति से धरती के पास से गुजरेगा। शनिवार को 31 मीटर का एस्टेरायड 2020केक्यू7 धरती से पास से निकलेगा। इसके बाद 2020एमई1 और 2020जेएक्स1 नाम के क्षुद्रग्रह रविवार को धरती के पास से गुजरेंगे। इनकी वजह से धरती पर कोई खतरा पैदा नहीं होगा, क्योंकि ये उपग्रह धरती से 471,000 मील की दूरी से गुजरेंगे।
नासा का सेंट्री सिस्टम ऐसे खतरों पर पहले से ही नजर रखता है। इसमें आने वाले 100 सालों के लिए फिलहाल 22 ऐसे एस्टरॉइड्स हैं जिनके पृथ्वी से टकराने की थोड़ी सी भी संभावना है। इस लिस्ट में सबसे पहला और सबसे बड़ा एस्टरॉइड 29075 (1950 डीए) जो 2880 तक नहीं आने वाला है। इसका आकार अमेरिका की एम्पायर स्टेट बिल्डिंग का भी तीन गुना ज्यादा है। एक समय में माना जाता था कि पृथ्वी से टकराने की इसकी संभावना सबसे ज्यादा है। 2020-2025 के बीच 2018 वीपी1 नाम के क्षुद्रग्रह के पृथ्वी से टकराने की संभावना है, लेकिन यह सिर्फ 7 फीट चौड़ा है। इससे बड़ा 177 फीट का क्षुद्रग्रह 2005 ईडी 224 सन 2023-2064 के बीच पृथ्वी से टकरा सकता है।